गणेश चतुर्थी 2021 इस शुभ अवसर पर सर्वश्रेष्ठ उपहार 

गणेश चतुर्थी 2021 इस शुभ अवसर पर सर्वश्रेष्ठ उपहार

 

1 गणेश चतुर्थी भारत में एक शुभ अवसर और बहुप्रतीक्षित त्यौहार है हम आपको कुछ सुझाव देते है की आप अपने प्रियजनों को क्या उपहार दे सकते है।

2 सूखे मेवे अधिकांश भारतीय त्यौहारो के लिए आदर्श उपहार है जिन्हे अक्सर सुन्दर बक्सों में उपहार में दिया जाता है।

3 मोदक के बिना गणेश चतुर्थी अधूरी है चाहे वह घर का बना हो या मिठाई की दुकान से ख़रीदा गया हो।

4 सोने को एक शुभ धातु माना जाता है इसलिए गणेश चतुर्थी के लिए सोने के सिक्के उपहार में देना एक उत्तम उपहार है।

5

यदि आप भौतिक सोना खरीदने का निर्णय लेते है तो गोल्ड ईटीएफ भी एक अच्छा उपहार हो सकता है।

6 त्यौहार के लिए एक सोने का लटकन भी एक उपयुक्त उपहार है।

7 बच्चो के लिए आप गुल्ल्क को उपहार में देने पर भी विचार कर सकते है।

8 अपने या किसी और  के बच्चे के लिए आप एसआईपी के जरिए म्युचुअल फंड में निवेश भी शुरू कर सकते है।

 

गणेश चतुर्थी 2021 गणेश जी की कथा

 

गणेश चतुर्थी के अवसर पर हम आपके लिए लाए है हाथी भगवान की कहानी भगवान शिव एक बार पार्वती को कैलाश पर्वत पर घर पर अकेला छोड़कर बुराई के खिलाफ लड़ाई गए थे। देवी को सनान के लिए जाना था लेकिन पहरा देने वाला कोई नहीं था वह आपने शरीर पर हल्दी का लेप लगाती थी और उसमे से कुछ का इस्तेमल छोटे लड़के के रूप में ढालने के लिए करती थी फिर उसने सांचे में फूंक दी और इस तरह भगवान गणेश का जन्म हुआ नन्हे गणेश को सख्त हिदायत दी गई थी की वह अपनी माँ को नहलाते समय किसी को भी अंदर न आने दे जल्द ही भगवन शिव युद्ध से घर लौटे आए एक अजीब छोटे लड़के को अपने ही घर में घुसने से रोकते हुए देखकर वह हैरान रह गया भगवान शिव ने अपनी सेना को छोटे लड़के पर हमला करने का आदेश दिया लेकिन गणेश ने अच्छी लड़ाई लड़ी और सभी को हरा दिया फिर क्रोधित होकर भगवन शिव ने एक झटके में गणेश का सर काट दिया जिससे उनकी तुरंत मृत्यु हो गई जब देवी पार्वती को इस बात का पता चला तो वह तो क्रोधित हो गई उसने आपने सभी आवतारो को बुलाया और पूरी मानव जाति को मिटा देने का फैसला किया भगवान शिव को अपनी गलती का एहसास हुआ और उन्होंने उनसे रुकने की गुहार लगाई लेकिन देवी पार्वती की दो शर्ते थीं की भगवान गणेश को वापस जीवन में लाया जाए और अन्य सभी देवताओ से पहले उनकी पूजा की जाए भगवान शिव ने भगवान ब्रम्हा से कहा की वे सोते हुए देखे जाने वाले पहले प्राणी का सिर अपने पास लाए जिसका सिर उत्तर की और हो भगवान ब्रम्हा एक हाथी के सर के साथ लौटे जिसे भगवान शिव ने तब भगवन गणेश के शरीर पर रखा उन्हें जीवित करने के बाद भगवान शिव ने भगवान गणेश को अपने पुत्र घोषित किया और कैलाशा पर्वत पर फिर से सब कुछ ठीक हो गया।

गणेश चतुर्थी की शुब्कामनाए।