Akshay Tritiya 14 May 2021 do one oopay from seven

अक्षय तृतीया पर 7 मेसे कोई 1 उपाय करने से भाग्य 15 हजार गुणा प्रबल होगा /Akshay Tritiya 14 May 2021 !

अक्षय तृतीय का जो फर्ज है पर्व है वह एक महापर्व माना जाता है क्योंकि अक्षय तृतीया जिस प्रकार धनतेरस होती है दीपावली होती है वर्ष प्रतिपदा यानी अघोरी पड़ा तथा विजयदशमी होती है इसी प्रकार अक्षय तृतीया का जो पर्व है स्वयं सिद्ध मुहूर्त माना गया है और इस दिन बिना पंचांग देखे बिना कोई भी शुभ मुहूर्त या मंगल कार्य आप सब प्रारंभ कर सकते हैं अक्षय तृतीया वैसे तो खरीदारी के लिए सबसे खास माना

जाता है लेकिन इस दिन यदि आप कोई भी शुभ या मांगलिक कार्यक्रम करना चाहते हैं बिना पंचांग देखे बिना मुंह दिखे कोई भी कार्य संपन्न कर सकते हैं इसमें किसी भी प्रकार का कोई मूड देखने की आवश्यकता भी नहीं होती है वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तिथि को अक्षय तृतीय कहा जाता है

इस बार अक्षय तृतीया का महापर्व 14 मई 2021 शुक्रवार के दिन है तथा इस दिन भगवान परशुराम का जन्म उत्सव मनाया जाता है जब बस रांची जब परशुराम जयंती भगवान विष्णु के 24 अवतार हैं अवतार उनमें छठे अवतार भगवान श्री परशुराम ही थे तो भगवान श्री परशुराम जी का अवतरण तिथि अक्षय तृतीय के दिन ही होता है।  अक्षय तृतीया के दिन कौन से खास उपाय करने चाहिए जिससे आपके जीवन में सुख शांति समृद्धि का वास हो जाए तो ऐसे ही कुछ उपाय हम आपको इस लेख में बताने जा रहे हैं उनको करने से आप का भाग्य कई गुना अधिक प्रबल होगा तथा आपके जीवन में जो भी समस्या आ रही है उनका निदान हो जाएगा और आपकी प्रत्येक मनोकामनाएं को की पूर्ति अवश्य ही होगी अक्षय तृतीया क्योंकि इस बार 14 माह 2021 शुक्रवार को है शुक्रवार के दिन माता महालक्ष्मी का माना जाता है और अक्षय तृतीया तो है अपने आप में ही स्वयं सिद्ध मुहूर्त माना गया है।

अक्षय तृतीया बड़ा पर्व है और इसे बड़े धूमधाम से और पूरी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है धर्म ग्रंथों तथा पुराना ऐसा लिखा हुआ है कि अक्षय तृतीया के दिन भगवान लक्ष्मी नारायण का पृथ्वी पर आगमन होता है और जो भक्त उनकी आराधना करते हैं उनकी पूजा करते हैं उनके मंत्रों का जाप करते हैं तथा उपाय करते हैं उनको भगवान लक्ष्मी नारायण मनचाहा फल प्रदान आवश्यक ही करते हैं इस बार अक्षय तृतीया काजोल शुभ मुहूर्त है।  जो इस प्रकार है 14 मई की सुबह से 5:39 तक अक्षय तृतीया तिथि प्रारंभ होगी जो कि 15 मई की सुबह 7:49 पर अक्षय तृतीया रहेगी तो सूर्य उदय विद्या पनिका 14 मई 2021 शुक्रवार के दिन ही मनाई जाएगी और इस अबूझ मुहूर्त में वैसे तो दिन और रात सभी मुहूर्त कोई भी कार्य के लिए अति उत्तम है इस दिन आप चाहे तो नए घर का पूजन कर सकते हैं नए घर में प्रवेश कर सकते हैं या फिर आप नया वाहन खरीद सकते हैं नया पदभार आप ग्रहण कर सकते हैं नए आभूषण खरीदना जैसे सोना चांदी सांबा हीरा यह वस्तुओं को खरीदारी करना भी अत्यंत शुभ माना जाता है अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदना सबसे अधिक शुभ माना जाता है और कल्याणकारी भी माना जाता है सोना भगवान लक्ष्मी नारायण की परम धातु होती है और इस दिन स्वर्ण का संग्रह करना महत्व माना गया है

इस दिन आप यदि विवाह करते हैं या कन्यादान करते हैं तो विवाहित दंपति के जीवन में सुख शांति समृद्धि बनी रहती है और उनका बंधन कई जन्मो तक अटूट रहता है और यदि फलदान कीजिए।  याटिका करेंगे सगाई करेंगे या कोई भी शुभ और मंगल कार्य करेंगे संपन्न करेंगे या फिर आप कोई नया वाहन खरीदेंगे तो सभी से अच्छा दिल अक्षय तृतीया का है यदि आप नई दुकान का कारण करना चाहते हैं या फिर आप नया व्यापार मैं ऑफिस का उद्धार यदि आप करना चाहते हैं या आप नया पदभार ग्रहण करना चाहते हैं तो सबसे उत्तम देता है।  इससे बड़ा दिन कोई भी नहीं हो सकता इसलिए इस दिन का लाभ अवश्य ही आप प्राप्त करें अक्षय तृतीया का शुभ मुहूर्त रहेगा 14 मार्च मई 2021 शुक्रवार के दिन सुबह 6:00 से लेकर 10:30 बजे तक चेस्ट मुहूर्त रहेगा उसके बाद दोपहर 12:00 बजे से अगला मुहूर्त प्रारंभ होगा जो कि दोपहर 1:30 तक यानी 1:30 बजे तक रहेगा उसके बाद शाम को 4:30 बजे से लेकर 6:00 बजे तक ही शुभ मुहूर्त रहेगा तथा रात में 9:00 से 10:30 तक का भी श्रेष्ठ मुहूर्त रहेगा।  इन सब मुद्दों में आप शुभ और मांगलिक कार्यक्रम संपन्न कर सकते हैं विवाह ग्रह प्रवेश भूमि पूजन आभूषण की खरीदारी आभूषण का दान इसके अलावा जो भी नया काम या शुभ काम आप करना चाहे वह इस दिन आप अवश्य ही करें लेकिन ध्यान रखें इस दिन कोई भी गलत काम बिल्कुल भी ना करें जिस प्रकार शुभ कार्य का अनंत होना फलदायक अक्षय तृतीया के गन्ने से होता है

उसी प्रकार यदि आप कोई पाप कर्म करेंगे गलत कर्म करेंगे तो आपको उसका पश्चाताप यानी उसको भोगना भी कई जन्मो तक पड़ेगा इसलिए आप अक्षय तृतीया के दिन भूलकर भी कोई गलत काम ना करें कोई भी बात करना करें भगवान विष्णु के 24 अवतार हैं उनमें से छाते अवतार भगवान परशुराम का प्रगट दिवस भी मनाया जाता है तथा इस दिल भगवान नारायण के चरणों से गंगा का भी प्रकट हुआ था सत्य सत्य सत्य तीनों युग के प्रारंभ का दिन भी मन जाता है।  अक्षय तृतीया वैसे तो खरीदारी के लिए खास माना जाता है लेकिन इस दिन आप जो भी दान करेंगे पुण्य करेंगे वह आपको अनंत गुना फलदाई सिद्ध होगा इसी दिन अक्षय पात्र जो कि पांडवों को प्राप्त हुआ था और उस अक्षय पात्र से जो भी अन्य प्राप्त होता था वह कभी भी सही नहीं होता था ज्ञानी कभी भी समाप्त नहीं होता था तो अक्षय तृतीया का दिन अपने आप में ही स्वयं सिद्ध है इस दिन आप यदि दान करेंगे पुण्य करेंगे वह भी आपके लिए अक्षय साबित होगा जिस प्रकार हर वर्ष अपने सामान की खरीदारी करते हैं

नया कारण कार्य शुभारंभ करते हैं उसमें हमें अनंत फल की प्राप्ति होती है उससे भी कहीं अधिक इस दिन दान पुण्य करने का महत्व माना गया है अक्षय तृतीया के दिन वैसे तो सभी प्रकार के दान पूर्ण करना बहुत ही कल्याणकारी माना जाता है भूखे प्राणियों को भोजन करवाना या फिर से व्यक्ति को जलाना जल का जल कलश का दान करना या प्याऊ लगवाना या फिर खरबूजे का दान करना या फिर अन्य दान करना वस्त्र दान करना गौ दान करना या तेल का दान करना या फिर जल कलश का दान करना भूमि दान करना स्वर्ण दान करना जी का दान करना नमक का दान करना शहद का दान करना और इन सब से भी कहीं अधिक बढ़कर कन्यादान होता है जो कि अक्षय तृतीया के दिन दान करने से हमारे जीवन में अक्षय पूर्ण की प्राप्ति अवश्य होती है क्योंकि जब हमारे पुण्य का हर्ष बढ़ेगा तब हमारे पाप समाप्त होते रहेंगे क्योंकि हमारे जन्म जन्मांतर के पाप के कारण ही हमें इस जीवन में पीड़ा यानी कष्ट भोगना पड़ता है जब हम पूर्णिया का संचय करेंगे तो हमारे बाप स्वता ही भूलते जाएंगे या समाप्त होते जाएंगे और जब हमारे जीवन में सभी पाप समाप्त हो जाएंगे।

पुण्य की विधि होगी तब हमारे जीवन में हमेशा सांसारिक सुखों की प्राप्ति होगी इसलिए महान पुण्य प्राप्त करने का यदि कोई दिन होता है तो वह अक्षय तृतीया होता है आप जो भी कर्म करेंगे पूजा पाठ करेंगे।  जब करेंगे तब करेंगे आराधना करेंगे तो वह आपके जीवन में अक्षय पुण्य कारी होगी।  और इस दिन भगवान सत्यनारायण की पूजा अर्चना कर सकते हैं नए घर का प्रवेश का आयोजन भी आप इस दिन कर सकते हैं तथा इस दिन आप वास्तु दोष का हवन भी करवा सकते हैं या फिर आप इस दिन चाहे तो कोई भी शुभ कार्य शुभ मंत्र जाप अनुष्ठान भी कर सकते हैं यदि आप अपने भलाई के लिए मंत्र जाप करना चाहते हैं या फिर आपको सिद्धि प्राप्त करना चाहते हैं तो अक्षर से बड़ा कोई भी दिन आपके लिए नहीं हो सकता।

अक्षय तृतीया के दिन आपको कुछ ऐसे उपाय करना चाहिए आपको कुछ ऐसे उपाय करने चाहिए जिससे आपके भाग्य में जो रुकावट आ रही है वह समाप्त हो जाए क्योंकि हमारा जब किस्मत चमकता नहीं है यह हमारे भाग्य में रुकावट आती है तो ऐसे में हम को कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है जब हमारे भाग्य में उन्नति होती है हमारे भाग्य में वृद्धि होती है तब हमें जीवन में सभी प्रकार के सुख की प्राप्ति होती है तो अक्षय तृतीया के दिन ऐसे ही कुछ साथ उपाय हम आपको बताने जा रहे हैं जिनको करने से आपका भाग्य कहीं अधिक गुना चमकेगा तथा आपके जीवन में सुख शांति समृद्धि का वास होगा।  अक्षय तृतीया के दिन इंसात आयोग उपायों को करने से आपका भाग्य आपकी किस्मत 15000 गुना अधिक चमकेगी तथा आप को सभी प्रकार की इच्छाओं की पूर्ति करने का अवसर प्राप्त होगा भगवान कहते हैं कि मैं स्वयं नहीं आता हूं मैं अपने भक्तों को किसी न किसी माध्यम से राह दिखाता हूं और उनका पद प्रदर्शन करके उन को आगे बढ़ाने में उनका सहयोग करता हूं इसके लिए आप भगवान की प्रेरणा को याद करके और उनकी पूरी मन से पूजा अर्चना करिएगा पूरे मन के साथ पूरी निष्ठा के साथ इन साथ उपायों को आप करेंगे निश्चित तौर से आपके जीवन की सारी समस्या का समाधान आपको प्राप्त हो जाएगा और आपके जीवन में सुख आएगा समृद्धि आएगी आएगी वैभव आएगा आप कर्ज से मुक्त हो सकते हैं यदि आप विवाहित जीवन से परेशान हैं तो वह भी परेशानी आपकी दूर हो जाएगी शिक्षा संबंधी समस्या का समाधान आपको मिल जाएगा आपके घर परिवार में कोई सदस्य बहुत दिनों से रोगी है तो उनका रोग समाप्त हो जाए या फिर आपके घर में अभी तक कोई बाल गोपाल की खुशियां प्राप्त नहीं हो पा रही है यानी आपको संतान प्राप्ति नहीं हो पा रही है तो वह भी आपको होने लगेगी इसके अलावा आपको धन प्राप्ति के रास्ते प्राप्त होने लगे।  और जो जो भी आपकी इच्छा होंगी जो जो भी मनोकामनाएं होंगी जो जो भी बुराइयां होंगी वह इन उपायों को करने से निश्चय ही समाप्त हो जाएंगे।

सबसे पहला उपाय जो आपको अच्छी तेज है कि विश करना है सुबह आपको सबसे पहले जल्दी उठना है ब्रह्म मुहूर्त में स्नान कर ले सूर्योदय के पहले यानी सूर्योदय होने की एक घंटा पहले से से लेकर के 1 घंटे बाद तक  इस उपाय में आपको सबसे पहले सूर्य भगवान को तांबे के लोटे में जल अर्पित करना है याद रखें तांबे के लोटे में मीठा जल लाल पुष्प लाल कुमकुम तथा लालचंद्र जो भी संभव हो सामग्री मीठी दाल जेल में डाल कर के भगवान सूर्य को तथा जल अर्पित करें तथा उनसे प्रार्थना करें हमारे जन्मों के कष्ट और पाप का निवारण हो जाए और आप का भरपूर आशीर्वाद प्राप्त हो तथा सूर्य भगवान को प्रणाम करें यह उपाय सूर्य भगवान की लालिमा दिखती है उस समय में करेंगे आप निश्चित मानिए गा पूरे दावे के साथ आपको बता रहे हैं कि आपके जीवन की सारी समस्या का अंत हो जाएगा।

दूसरा उपाय पूरे घर की आपको अक्षय तृतीया के दिन अच्छे से साफ सफाई करना है और झाड़ू लगाना है क्योंकि जहां पर स्वच्छता होती है पवित्रता होती है वहां पर देवी देवताओं का आगमन होता है इसलिए पूरे घर को साफ सुथरा रखें इस प्रकार हम दिवाली धनतेरस के दिन हम पूरे घर को साफ रखते हैं।  उसी प्रकार आपको अक्षय तृतीया के दिन अपने घर को साफ-सुथरा करके और पूरे घर में नमक का पोछा लगाने के बाद मुख्य द्वार पर गंगाजल आपको छिड़कना है तथा मुख्य द्वार पर रंगोली बनाना है और वहां पर शुद्ध शुद्ध घी का यदि संभव हो तो गाय के घी का दीपक लगाना चाहिए और माता लक्ष्मी और भगवान नारायण से आपको प्रार्थना करनी चाहिए कि हे प्रभु हमें आशीर्वाद प्रदान करें और आपकी जो भी इच्छाएं हैं मन में स्मरण करें इस उपाय को भी आ प्रातः काल में करेंगे तो अति उत्तम करेगा और वैसे तो आप दिन में या शाम को भी इस उपाय को कर सकते हैं।

इसके बाद तीसरा उपाय आपके घर में यदि तुलसी जी का वृक्ष है वैसे तो तुम सीजी माता होती है तुलसी जी को महारानी कहा गया है तुलसी जी को वृंदा कहा गया है यदि आपके घर में तुम सीजी है और वृंदावन है तो वहां पर आ जा कर के आप प्रातः कालीन बेला में उन को जल चढ़ाएं और उनके ऊपर पीछे धारा से बिल्कुल जल नहीं चढ़ाना चाहिए धीरे-धीरे उनके आसपास जल चढ़ाएं उसके बाद उसको कुमकुम तथा चंदन का तिलक लगा दे और तिलक लगाने के बाद में उनको एक पुष्प चढ़ा दें.उसके बाद आपको आसपास घूम कर अपनी मनोकामना मांगी है और सच्चे मन से आराधना करनी है की है तो उसे महारानी हे वृंदा आप हमारे ऊपर कृपा कीजिए और आपकी जो भी इच्छाएं हैं जो भी काम ना आए हैं वह आप स्मरण कर लीजिए इस उपाय को आप अक्षय तृतीया के दिन फ्राय प्रातः कालीन में बेला में करते हैं यानी सुबह प्रातः ब्रह्म मुहूर्त से लेकर के मध्य 12:00 बजे से पहले पहले आप आपको इस कार्य को कर लेना चाहिए लेकिन ध्यान रखें कोई भी उपाय है जब हम करते हैं शुद्ध और पवित्र होना आवश्यक होता है यानी शुद्ध स्नान करके तथा धुले हुए वस्त्र धारण करके ही इन उपायों को करें।

तथा चौथा उपाय गौ माता की पूजा आपको अक्षय तृतीया के दिन करना चाहिए तथा गौमाता के निमित्त घास का दान करना चाहिए यदि संभव हो तो अपने हाथ से रोटी रोटी तथा घास खिलाना चाहिए लेकिन ध्यान रखें गौमाता को वैसे तो कभी भी झूठा नहीं खिलाना चाहिए लेकिन खासतौर से अक्षय तृतीया के दिन गौ माता को भूल कर भी आपको झूठा नहीं खिलाना है क्योंकि गौमाता के अंदर साक्षात लक्ष्मी जी का निवास होता है इसलिए गौ माता की सेवा करें पूजा करें उनको खाने पीने की वस्तुओं का दान आप कर सकते हैं तो गौ माता की सेवा करते हैं।  हाथ जोड़ करके उनसे प्रार्थना करें और आप अपनी मन की इच्छाओं को उनके सामने प्रकट कर दें।

पांचवा उपाय यह है कि यदि आप अपने घर के मुख्य द्वार पर दोनों तरफ स्वस्तिक का चिन्ह बना देते हैं स्वस्तिक का निशान चाहे तो आप हल्दी से बना दे या फिर आप सिंदूर से या डोली से उस दिन बना सकते हैं यदि पहले से आप के मुख्य द्वार के दोनों तरफ स्वस्थ के निशान बने हुए हैं तो भी आप को अक्षय तृतीया के दिन जरूर बना देनी है वैसे जो स्वस्तिक के चिन्ह है वह अक्षय तृतीया के दिन पूरे घर में प्रत्येक कमरों में आप को बनाना चाहिए जिससे आपके घर के वास्तु दोष से आपको समाप्ति मिले इसके साथ आपके घर में भगवान लक्ष्मी नारायण के साथ-साथ समक्ष देवी देवताओं का आगमन भी होगा क्योंकि सचिन है वह कल्याणकारी माना गया है बड़ा ही शुभ होता है और जिन घरों में स्वस्थ बनाए जाते हैं उन घरों में वास्तु दोष का कभी आगमन नहीं होता तथा वहां पर माता लक्ष्मी का के साथ-साथ कुबेर जी का और समस्त देवी देवताओं का आगमन होता है।

इसके बाद छठा उपाय है यदि आपके घर में सुख शांति समृद्धि चाहते हैं कर्ज से मुक्ति चाहते हैं घर में प्रसंता का वातावरण चाहते हैं हल्दी में चावल को प्ले कर लीजिएगा लेकिन ध्यान रखिएगा जो चावल आप पी ले कर रहे हैं उनको खंडित नहीं होना चाहिए।  यानी टूटे हुए चावल का उपयोग बिलकुल भी नहीं करना है अच्छे साबुत चावल आप लेकर के हल्दी में पीले कर लीजिएगा और पीले करने के बाद में उनको किसी भी कटोरिया पात्र में रख कर के आप मुख्य द्वार पर जाकर के खड़े हो जाएगा 2 मिनट आंखें बंद करके और भगवान का ध्यान करिए प्रभु का स्मरण कीजिएगा हे प्रभु हमारे घर में सुख शांति समृद्धि का बात कीजिए तथा आपकी कृपा हमेशा हमारे साथ बनी रहे और आपके मन में जो जो भी इच्छाएं हैं आप प्रकट कर दीजिए इसके बाद जो आपने पीले चावल हल्दी में किए हैं उनको सबसे पहले थोड़े से चावल आपको मुख्य द्वार पर छिड़कना है घरों में पीले चावल से रखने हैं।  आपको बस पीले चावल खाना चाहिए और उसके बाद अगले दिन सुबह जादू के माध्यम से उन्हें चावलों को एकत्रित करके पक्षियों को आपको डालना चाहिए या नदी तालाब में भी मछलियों को वह बता सकते आपके घर में पारिवारिक सदस्यों के बीच में प्रेम पड़ेगा और आपके घर में रोज आए बेरोजगार है रोजगार प्राप्त हो जाएगा।

इसके बाद 7 उपाय यह है कि अक्षय तृतीया के दिन आपको नारियल लेना है पानी वाला नारियल और उसको लाल कपड़े में लपेटकर नारियल के ऊपर आप रोली चावल जो जो भी आपके चढ़ा सकते हैं।   वह चढ़ा दीजिए उस नारियल को आपको भगवान लक्ष्मी नारायण की मूर्ति आपके घर में हैं या चित्र है उनके चरणों में समर्पित कर दीजिएगा। वह नारियल अक्षय तृतीया के दिन पूरे दिन उस पेड़ में ही लटका रहेगा या भगवान के चरणों में रखा रहे और अक्षय तृतीया की जब रात्रि हो जाती है सूर्य अस्त हो जाता है उसके बाद या फिर अगले दिन उस नारियल को भगवान के चरणों से उठाकर अपनी तिजोरी में या अपने धन रखने के स्थान पर आपको रख देना चाहिए ऐसा करने से आपके घर में धन की कभी कमी नहीं आएगी और आपके भाग्य में निरंतर उन्नति तथा प्रगति आपको प्राप्त होगी।

https://sunstarup.com/may-7-varuthini-ekadashi-date-paran-muhurta-fasting-rules-puja-vidhi-and-katha/

अक्षय तृतीया पर 7 मेसे कोई 1 उपाय करने से भाग्य 15 हजार गुणा प्रबल होगा /Akshay Tritiya 14 May 2021…

Leave a Reply

Your email address will not be published.