Amla Amrat ke Guno se bharpur

    Amla Amrat ke Guno se bharpur

आंवला अमृत के गुणों से भरपूर

 

आंवला :  प्रकृति द्वारा प्रदत्त आँवला अमृत के गुणों से भरपूर बढ़ती आयु को रोकने में सहायक,कब्ज ,एसिडिटी ,स्किन ,हेयर इन सब के लिये गुणकारी है।  आंवला शरीर बहुत ही लाभदायक है।  आंवला  विटामिन C का प्राकतिक सोर्स है        इसमें विटामिन सी ,विटामिन AB कॉम्प्लेक्स ,पोटेशियम ,कैल्शियम ,मैगनीशियम ,फाइबर ,आयरन ,कार्बोहाइड्रेड और डाययुरेटिक एसिड, पाया जाता है। आंवला इतना गुणकारी है की आयुर्वेद में इसको 100 बिमारियों की एक दवा माना गया है। आंवला को आप  कच्चा भी खा सकते है। या फिर आप आंवले का मुरब्बा भी खा सकते है।  रोज सुबह खाली पेट आंवले का जूस पीना चाहिये। सर्दी के मौसम में आंवले के फल का अधिक महत्व होता हैक्योकि कार्तिक मास में कार्तिक स्नान करने म वाली महिलाये आंवला नवमी को आंवले की विशेष पूजा करती है। आंवले का पेड़ लगभग 20 -25 फीट ऊंचा पेड़ होता है। यह एशिया के आलावा यूरोप और अफ्रीका में पाया जाता है।

Amla Amrat ke Guno se bharpur

आंवले के फल छोटे और गोल आकर के खट्टे – होते है। लेकिन आवला हमारी आँखों की रौशनी के लिये बहुत ही गुणकारी है और आयुर्वेद में तो आंवले को अमृत माना गया है। संस्कृत में इसका नाम ,अमृता ,आमली ,पंचरसा और अमृतफल के नाम से जाना जाता है।

भारत में वाराणसी का आंवला सबसे अच्छा माना गया है। आंवला में विटामिन C नष्ट नहीं होता है। आंवला दाह ,रक्तपित ,खासी,दमा, कब्ज ,क्षय ,ह्रदय रोग ,मूत्र विकार इन सभी बीमारियाँ को ख़त्म करने की शक्ति रखता है।

आंवला बालों को लम्बे और धने बनाये रखते है। और हिंदू धर्म में आंवले के पेड़ और फल दोनों की ही पूजा जाती है। और ऐसी मान्यता है की आंवले का फल भगवान विष्णु को पूजनीय है। हमेशा से ही आंवले का उपयोग एक औषधि के रूप में किया जाता है। पेड़ -पौधा से जो औषधि बनाई जाती है। पांच रस आंवला में

विटामिन सी ,विटामिन AB कॉम्प्लेक्स ,पोटेशियम ,कैल्शियम ,मैगनीशियम ,फाइबर ,आयरन ,कार्बोहाइड्रेड और डाययुरेटिक एसिड पाया जाता है।

 

आंवले के फायदे :-

आंवला शरीर की इम्युनिटी बढ़ाता है। और आंवला कई बीमारियों को जड़ से ख़त्म करता है।

. आवला शुगर (डायबिटीज )में बहुत ही फायदेमद है। क्योकि इसमें क्रोमियन तत्व पाये जाते है।

. इंसुलिन हार्मोस को मजबूत कर खून में शुगर लेवल को कंट्रोल करते है।

. आंवला ह्रदय के लिये सेहतमंद है। इसमें मौजूद  क्रोमियन बीटा ब्लॉकर के प्रभाव को काम करता है। यह बेड कोलस्ट्रॉल को ख़त्म कर गुड कोलस्ट्रॉल को बनाने के मदद करता है।

. आंवला पाचन तंत्र को मजबूत रखने में सहायक है। आंवला को अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिये। भोजन में रोज आंवले की चटनी ,मुरब्बा ,अचार चूर्ण आदि को शामिल करना चाहिये क्योकि इससे कब्ज की शिकायत दूर होती है।

आंवला में बैक्टीरिया और फगल इंफेक्शन से लड़ने की ताकत होती है।

आंवला शरीर के मौजूद टॉक्सिन यानि की अवशिष्ट पदार्थ को बाहर निकाल देता है।

. आंवला खाने से सर्दी -जुकाम ,अल्सर ,और पेट के इंफेक्शन से राहत मिलती है।

. आंवला खाने से हड्डियाँ को ताकत मिलती है। इससे आस्ट्रोपोरोसिस ,गठिया और जोड़ो के दर्द में आराम मिलता है। .

. आंवला का जूस आँखों के लिये बहुत ही गुणकारी है। और आँखों की रोशनी को बढाती है।

.

आंवला  महिलाओ की समस्याओ के लिए बहुत ही गुणकारी है।

. आंवले के सेवन से टेंशन नहीं होती है और रात भर अच्छी नींद आतीहै। आंवले के तेल की सिर में मालिश करने से सिर में ठंडक रहती है

. आंवला का सेवन , ह्रदय की मांसपेशियों के लिये बहुत ही उत्तम होता है

आंवले का जूस बवासीर के लिये फायदेमंद है। और कुष्ट रोग में भी आँवला बहुत ही फायदेमंद है। .

. आँवला में एन्टीऑक्ससिडेंट तत्व होते है। जो हमारे शरीर की रोगप्रतिरोध क्षमता को बढ़ता है। और एसिडिटी ,आँख ,बाल ,एवं स्किन से संबधित बीमारियों में और उम्र के साथ बढ़ने वाले रोगो को रोकने में बहुत  उपयोगी है

 

आयुर्वेद ने आंवला को अमृततुल्य माना गया है। इसके  रोजना सेवन से हम बहुत सी बीमारियों से बच सकते है। इसलिये हमे प्रतिदिन आंवले को अपनी डाइट   में शामिल करना चाहिये।

 

.

 

 

Leave a Reply