Home>>News>>Beshakh ki Varuthini Ekadashi par wish ke liye mantra
News

Beshakh ki Varuthini Ekadashi par wish ke liye mantra

 

Beshakh ki Varuthini Ekadashi par wish ke liye mantra

बैशाख की वरूथिनी एकादशी पर भगवान विष्णुजी

की आराधना से मनोकामना पूर्ण करने का मंत्र(उपाय)

 

एकादशी के दिन सुबह  स्नान के बाद सर्य को जल चढायें औरविष्णु के मंत्र ,ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय।।

का जाप 108 बार करे। और भगवान विष्णु के साथ ही महालक्ष्मी    की भी पूजा अर्चना करें। फिर दक्षिणावर्ती शंख में दूध और केसर को मिलाकर अभिषेक करें। और भगवान श्रीकृष्ण को माखन -मिश्री का भोग लगायें।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु को इस सृष्टि (जगत, संसार).के पालनहार हैं। भगवान विष्णु की अर्धांगिनी माता माता लक्ष्मी जी हैं। और विष्णु भगवान माता लक्ष्मी के साथ क्षीर सागर में रहते है।श्री हरि विष्णु जी का स्वरूप बहुत प्रभावशाली है।और विष्णु भगवान सदैव ही अपने हाथ मे चक्र, शंख, और गदा को धारण करें रखते हैं भगवान विष्णु जी का अमोघ शस्र सुर्दशन चक्र हैं।यह चक्र हम सब को अपने लक्ष्य के प्रति एकाग्रह होने का संदेश देता हैं। जिस तरह चक्र की एकाग्रता से अपने लक्ष्य को भेदने की शक्ति रखते हैं। उसी प्रकार हमें भी  अपने मार्गदर्शन को लेकर अपने लक्ष्य की तरफ बढना चाहिए

भगवान विष्णु जी के शंख की ध्वनि से  जीवन मे  सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार शंख से निकलने वाली ध्वनि से नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती हैं। और आध्यात्मिक दृष्टि से शंक  से निकलने वाली ध्वनि ऊँ की ध्वनि के समान होती हैं। शंख की ध्वनि से हमारी अंतर आत्मा और चेतना को जागृत करती हैं। हमें भी शंख की  तरह लोगों के जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करना चाहिए।

 

भगवान विष्णु के गदा बल और शक्ति को दर्शाति हैं। व्योकि बल से दुष्टो का सर्व नाश किया जाता हैं।।और सज्जनों की रक्षा। भगवान विष्णु ने इस शस्र से हमें बल

 

महत्व के बारे मे ज्ञान होता हैं।  जीवन में सफलता के लिए बल और शक्ति का होना बहुत जरुरी है। किसी भी व्यक्ति को अपने बल और शक्ति का  कहीं भी गलत प्रयोग नहीं करना चाहिए।

भगवान विष्णु ने के हाथ में कमल का फूल धारण किया हुआ है। यह फूल एकाग्रता और सत्यता का प्रतीक हैं।जिस प्रकार कमल का फूल कीचड़ मे रहकर भी अपनी खुशबू और सुन्दरता बनाये रखता हैं वैसे ही हमें भी अच्छा व्यक्ति बनने के लिए संसार रूपी माया मे रहतें हुये। खुद को निर्मल बनाये रखना चाहिए।

Leave a Reply