Best Poem on Raksha Bandhan in हिंदी !

0 Comments

Best Poem on Raksha Bandhan in हिंदी !

नमस्ते दोस्तों ! आपका इस वेबसाइट पर स्वागत है। आज हम इस वेबसाइट के द्वारा Best Poem on रक्षाबंधन हिंदी में बताने जा रहे है। जो आपको निचे जाकर मिलेगी। अगर आपको रक्षाबंधन से मिलते जुलते चित्र चाहिए तो आपको https://sunstarup.com/ यहाँ जाना पड़ेगा। जिससे आपको सुन्दर सुन्दर चित्र मिल सके।
रक्षाबंधन भाई बहन के प्यार के प्रतिक त्यौहार है यह दिन बहन और भाई के लिए बहुत खर होता है। इस दिन बहन अपने भाई को रक्षासूत्र बांधती है, जिसे राखी कहा जाता है जो त्याग, प्रेम और कर्तव्य का प्रतीक मन जाता है। इस दिन बहनें अपने भाई के दायें हाथ पर राखी बाँधकर उसके माथे पर तिलक करती हैं और उसकी लंबी आयु की कामना करती हैं। बदले में भाई उनकी रक्षा का वचन देता है। ऐसा माना जाता है कि राखी के रंगबिरंगे धागे भाई-बहन के प्यार के बन्धन को मज़बूत करते है।

रक्षा
बंधन कविता इन हिंदी

1 .

राखी आई बधाइयाँ लाई
बहन आज फूले ना समाई
राखी, रोली और मिठाई
इन सब से थाली सजाई
बांधे भाई की कलाई पर राखी
भाई से लेती है यह वादा
राखी की लाज भाई निभाना
बहन को कभी भूल ना जाना
भाई देता बहन को वचन
दुख उसके सब कर लेगा हरण
भाई बहन को प्यारा है
त्यौहार राखी का न्यारा है

2.

आज बहन ने बड़े प्रेम से
रंग बिरंगा चौक बनाया
इसके बाद चौक के ऊपर
अपने भैया को बिठाया
रंग बिरंगी राखी बाँधी
फिर सुंदर सा तिलक लगाया
गोल गोल रसगुल्ला खाकर
भैया मन ही मन मुस्कुराया
थाल सजाकर दीप जलाकर
भैया की आरती उतारी
मन ही मन में कहती बहना
भैया रखना लाज हमारी
करना सदा बहन की रक्षा
भैया तुमको समझता है
कच्चे धागों का ये बंधन
रक्षा बंधन कहलाता है

3.

कैसी भी हो एकबहन होनी चाहिए….
बड़ी हो तो माँ – बाप
से बचाने वाली…..
छोटी हो तो हमारे…
पीठ पीछे छुपने वाली….
बड़ी हो तो चुपचाप हमारे
पॉकेट में पैसे रखने वाली…
छोटी हो तो चुपचाप पैसे
निकाल लेने वाली…
छोटी हो या बड़ी
छोटी – छोटी बातों
पे लड़ने वाली
एक बहन होनी चाहिए
खुद से ज्यादा हमे
प्यार करने वाली एक
बहन होनी चाहिये

4.

बड़ा अनोखा ये प्रेम का बंधन
बहना मेरी मेरे घर का कुन्दन
धुप पुष्प का थाल सजाकर
आई करने को पूजन वन्दन
जुग – जुग जिये भैया मेरा
हर रोज लगाऊं दीप व् चंदन
मिले सफलता तुझे जहाँ में
जाएँ जहाँ भी तेरा हो अभिनन्दन
खुशियाँ ही खुशियाँ मिले तुझे बहना
न देखू तेरा कभी करुण क्रदन
मिलकर रहे दीप बहन-भाई
ये याद दिलाता हमे रक्षा बंधन

5.

हर सावन में आती राखी,
बहना से मिलवाती राखी…
चाँद सितारों की चमकीली,
कलाई को कर जाती राखी…
जो भूले से भी ना भूले,
मनभावन क्षण लाती राखी,
अटूट-प्रेम का भाव धागे से
हर घर में बिखराती राखी…
सारे जग की मूल्यवान
चीजों से बढकर भाती राखी.
सदा बहन की रक्षा करना,
भाई को बतलाती राखी.

6.

आओ भैया , प्यारे भैया
मस्तक पर शुभ तिलक लगा दूँ
रक्षा बंधन की बेला मेँ
धागो का कंगन पहना दूँ

Also Check :: सोमवार की व्रत कथा !