Muhavre Hindi

  Muhavre Hindi

मुहावरे

मुहावरा शब्द अरबी भाषा का है जिसका अर्थ है – अभ्यास जब कोई शब्द-समूह या पद या वाक्यांश लगातार प्रयोग के एरान सामान्य अर्थ न देकर विशेष अर्थ व्यक्त करने लगे, तो वो मुहावरा कहलाता है। सामान्यत: प्रत्येक मुहावरा एक वाक्यांश होता है पर प्रत्येक वाक्यांश मुहावरा तो किसी अर्थ विशेष में रूढ़ हो जाता है ; जैसे – आँख का ताराइसका अर्थ है बहुत प्यारा।

मुहावरों के प्रयोग से भाषा में सरसता, रोचकता, प्रवाह और चमत्कार आ जाता है।  इसके प्रयोग से भाषा जीवंत तथा प्रभावशाली हो जाती है। गहरे भावो को व्यक्त करने में इनसे बहुत सहायता मिलती है। 

 

  1. चिराग तले अँधेरा = महत्वपूर्ण स्थल पर अन्याय होना

पुलिस अधिकारी के घर चोरी तो भाई चिराग तले अँधेरा जैसा है।

 

  1. थूक कर चाटना = वचन से मुकरना

पडोसी ने पहली तारीख को रुरूपए वापस करने का वचन दिया था, परंतु वह तो थूककर चाट गया।

 

  1. चूडियाँ पहनना = कायर होना

यदि भारतीय नेता कश्मीरियों की उग्रवादियों से रक्षा नहीं कर सकते तो उन्हें चूड़ियाँ पहन लेनी चाहिए।

 

  1. तिल का ताड़ बनाना = छोटी-सी बात को बढ़ा देना

पाकिस्तान के राष्ट्रपति कश्मीरियों की समस्या को तिल का ताड़ बनाकर शोर मचाते रहते हैं।

 

  1. चुल्लू भर पानी में डूब मरना = शर्म महसूस करना

अगर नेता शपत खाकर भी जनता की भलाई  काम नहीं करते तो उन्हें चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए।

 

  1. डूबते को तिनके का सहारा = संकट में फँसे व्यक्ति को सहायता देना

गगन की सहेली श्रद्धा का रोहित की फ़ीस जमा करना डूबते को तिनके का सहारा है।

 

  1. छाती पर मूँग दलना = जान-बूझकर दुःख देना

विशाल काम तो कतई करता नहीं,अपने माता-पिता की छाती पैर मूँग दलता रहता है।

 

  1. ठन-ठन गोपाल = बिलकुल कंगला

तुम रमेश से पैसे वसूलने की बात कर रहे हो, वसूलने की बात कर रहे हो वह तो आजकल ठन-ठन गोपाल है।

 

  1. छाती पर पत्थर रखना = चुपचाप आपत्ति सहना

जब पिता ने गगन को सचिन से जायदात में कम हिस्सा दिया तो गगन अपनी छाती पर पत्थर रख कर चुपचाप मन गया।

 

  1. टेढ़ी उँगली से घी निकालना = शक्ति से कार्य सिद्ध करना

वह आपको सीधी तरह पैसे नहीं लौटाएगा। आप पुलिस की सहायता लीजिए। टेढ़ी-उँगली से ही घी निकलता है।

 

  1. जंगल में मंगल होना = निर्जन स्थान में भी आनंदपूर्वक जीवन व्यतीत करना

पहाड़ो पर रेस्तरां तथा धर्मशाला खुलने से मुसाफ़िरों के लिए जंगल में मंगल हो गया।

 

  1. टोपी उछालना = अनादर करना

बुज़ुर्गो का कहना न मानना उनकी टोपी उछालने के बराबर है।

 

  1. जहर का घुट पीना = अन्याय सहना

उग्रवादियों के लगातार हमलो से कश्मीरी पंडितों को जहर के घूँट पिने पड़ रहे है।

 

  1. टका-सा जवाब देना = साफ़ इंकार करना

सरकारी कर्मचारियों को जनता की भलाई का काम करने को कहो तो वे टका-सा जवाब दे देते हैं।

 

  1. फूटी आँख न सुहाना = कतई अच्छा न लगना

सौतेली माँ को रौनक फूटी आँख नहीं सुहाता था। वह जब-जब उसे डाँटती रहती थी।

 

  1. थाली का बैगन = हानि-लाभ देखकर पक्ष बदलने वाला

यह पुलिस वाला तो थाली का बैगन है, जहाँ से अधिक धन मिलता, है उसी के पक्ष में फैसला दे देता है।

 

  1. पेट में दाढ़ी होना = बहुत चालक होना

दुनिया को दिखने के लिए तो सेठ जी बहुत दानवीर है, परंतु उनके पेट में तो दाढ़ी है।

 

  1. दाँतों तले उँगली दबाना = हैरान होना

आग लगे माकन से बच्चे को बचाकर लाते हुए युवक को देखकर लोगों ने दाँतों तले उँगली दबा ली।

 

  1. पानी का बुलबुला = क्षणिक जीवन

महात्मा हमें समझाते हैं की मनुष्य का शरीर पानी का एक बुलबुला है, इससे भगवान की भक्ति में लगाओ।

 

  1. दाल में काला होना = गड़बड़ होना

रात को घर के पिछवाड़े फुसफुसाने की आवाज़ सुनकर मुझे लगा की दाल में कुछ काला है।

 

  1. पहाड़ टूटना = भरी कष्ट आ पड़ना

किरण के पति की मृत्यु के बाद उसकी जिंदगी पर तो पहाड़ टूट पड़ा है।

 

  1. दिन दूनी रात चौगुनी उन्नति करना = लगातार प्रगति करना

विपिन की कपडे की दुकान खोलने पर उसके माता-पिता ने उससे दिन दूनी रा चौगुनी उन्नति करने का आशीर्वाद दिया।

 

  1. नाक पर मक्खी न बैठने देना = पाने ऊपर कोई परेशानी न आने देना

जानता चाहे भूखी मरे परंतु नेता अपनी नाक पर मक्खी भी नहीं बैठने देते।

 

  1. दो दिन का मेहमान = मृत्यु निकट होना

जस्सू के दादाजी अब तो दो दिन के मेहमान है,परंतु फिर भी वह उनके इलाज में कोई कसर नहीं छोड़ रहे।

 

  1. नानी याद आना = मुसीबत देखकर घबरा जाना

बलजीत ने अच्छी तैयारी नहीं की थी।  परीक्षा पत्र देखकर उसे नानी याद आ गई।

 

  1. दो टूक जवाब देना = साफ़-साफ़ उत्तर देना

भारत को पाकिस्तान से नरमी के वजाए दो टूक जवाब दे देना चाहिए।

 

  1. नमक मिर्च लगाना = छोटी-सी बात को बढ़ा-चढ़ा कर करना

कुछ पडोसी देश कश्मीर समस्या को नमक-मिर्च लगाकर दुनिया के सामने रखते है।

 

  1. धुप में बाल सफ़ेद न करना = बहुत अनुभवी होना

बड़े-बुजुर्ग अगर बच्चों को क्लब या सिनेमा जाने के लिए जाने के लिए मन करते हैं तो व्यर्थ नहीं कहते क्योंकि उन्होंने धुप में सफ़ेद नहीं किए हैं।

  1. हथियार डालना = हार मान

इराकी सेना ने अपनी जान बचाने की खातिर अमेरिकी सैना के समक्ष हथियार डाल दीए।

 

  1. बात का धनी होना = वायदे का पक्का

पुराने ज़माने  में लोग बात के धनी होते थे, जो कह दिया सो कह दिया।

 

  1. हाथ-पाँव फूल जाना = घबरा जाना

बिजली के बिल की मोटी रकम देखकर रमेश के हाथ-पाँव फूल गए।

 

  1. माथा ठनकना = बुराई की आशंका होना

बच्चे को पालने में न देखकर नर्स का माथा ठनका /

 

  1. हाथ पर हाथ रखकर बैठना = बिना कार्य के बैठना

सरकारी कर्मचारीयों को जनता के दुःख-दर्द से क्या लेना देना, वे तो हाथ पर हाथ रखकर बैठे रहते है।

 

  1. मुँह तोड़ जवाब देना = बदले में करारी चोट देना

कारगिल कारगिल में भारतीय सैनिको ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुँह तोड़ जवाब दिया।

 

  1. हाथ धो कर पीछे पड़ना = पीछा न छोड़ना

अमेरिका तालिबान के पीछे हाथ  धोकर ऐसा पड़ा है की उसे ख़त्म करके ही छोड़ेंगे।

 

  1. रँगा सियार होना = धोखा देने वाला

राजीव की खुशामदी बातों को सुनकर अध्यापक ने छात्रों को सचेत किया की उसकी बातों में नहीं आना, वह तो रँगा सियार है।

 

  1. हवा का रुख पहचानना = अवसर को पहचानना

हवा का रुख पहचान कर नेता लोग चुनावी भाषण देते हैं।

 

  1. लहू का घूँट पीकर रहना = विवशता से अपमान सहना।

जब भरी सभा में दुश्मन ने द्रोपती का चीर-हरण किया तो पाँडव लहू का घूँट पीकर चुपचाप बैठे रहे।

 

  1. सिर से पानी गुजर जाना = सहनशीलता समाप्त होना

जब सिर से पानी गुजर जाता है तो औरत चंडी का रूप धारण कर लेती है।

 

  1. वेद-वाक्य मानना = पूरी तरह विश्वास करना

छात्र अध्यापक की बातों को वेद-वाक्य मानते है।

 

  1. सिर पर कफ़न बाँधना = प्राणों की चिंता न करना

जब युद्ध का बिगुल बजता है तो रण-बाँकुरे सिर पर कफ़न बाँधकर चलते हैं।

Leave a Reply