putrada ekadashi 2021: पुत्रदा एकादशी कब है जाने डेट तिथि शुभ मुहूर्त और पारण समय

putrada ekadashi 2021: पुत्रदा एकादशी कब है जाने डेट तिथि शुभ मुहूर्त और पारण समय

 

पुत्रदा एकादशी का व्रत और पूजन का पुण्य मिलता है जिससे व्यत्कि तपस्वी विदान पुत्रवान और लक्ष्मीवान बनाता है इस बार यह 18 अगस्त को पड़ रहा है।

putrada ekadashi 2021: श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की एकदशी तिथि इस बार 18 अगस्त दिन बुधवार तड़के 3 बजकर 20 मिनट से शुरू होगी जबकि समापन उसी दिन देर रात 1 बजकर 5 मिनट पर होगा इसके चलते पुत्रदा एकादशी व्रत 18 अगस्त को रखा जाएगा।

इस दिन विधि विधान से की गई उपासना मनवंछित फल देने वाली होती है जो श्रद्धालु एकादशी व्रत करते है उन्हें एक दिन पहले ही अर्थात दशमी तिथि की रात से ही व्रत का नियम मन्ना शुरू कर देना चाहिए दशमी की शाम सूर्य ढलने के बाद भोजन नहीं करना चाहिए और रात के वटक श्रीहरि विष्णुजी का ध्यान कर सोए अगली सुबह सूर्यदय से पहले उड़कर नित्य किर्या से नुप्तकार स्नान करे गंगाजल है तो पानी में उसे मिलकर नहाना चाहिए और स्वच्छ कपडे पहने पुरे दिन हरि का ध्यान रके।
पूजा के लिए विष्णुजी की फोटो के सामने दीप जलाकर व्रत संकल्प ले और विधि विधान से कलश स्थापना करे कलश को लाल कपडे से बांधकर पूजा करे श्रीहरि की प्रतिमा रखकर स्नानादि कर शुद्ध और न्य वस्त्र पहनाए धुप दीप आदि से पूजा-अर्चना और आरती करे नैवेध और फलो का भोग लगाकर प्रसाद बांटे श्रीहरि विष्णु को सामथ्य के औसर फल-फूल नारियल पान सुपारी लौंग बेर आवला आदि अर्पित करे।

एकादशी

की पूरी रात भजन-कीर्तन करना चाहिए
पुत्रदा एकादशी व्रत में पुरे दिन निराहार रहकर शाम को कथा आदि सुनने के बाद फलाहार करना चाहिए दूसरे दिन ब्रह्मणो को भोजन और दान-दक्षिणा आदि करने का प्रवधान है इसके बाद खुद पारण कर खाना चाहिए इस दिन दीपदान का बहुत महत्व है ऐसे में यह करना न भूले इस व्रत के पूर्ण होने से मनुष्य तपस्वी विदान पुत्रवान और लक्ष्मीवान बनता है।