आम का आचार बनाने की रेसिपी

 

आम का आचार बनाने की रेसिपी

 

जैसे आम सब फलों के बादशाह माना जाता है वैसे ही आम के अचार को भी सारे अचारों का बादशाह मन जाता है। आम के आचार को तो लोग बहुत शौक से खाते है। साथ-साथ इसका व्यापर भी सर्वाधिक होता है। जो लोग अपने घर पर छोटेउद्योग चालू करना चाहते है उनके लिए आम के अचार का कारोबार अत्यंत लाभकारी है। इसे शीशे की बड़ी शीशियों में पैक करके बड़े आराम से बेचा जा सकता है।

 

सामग्री:

कच्चे आम बड़े आकार के     10 किलो

हल्दी                              400 ग्राम

शुद्ध सरसों का तेल                1 1/2 किलो

लाल मिर्च                          500  ग्राम

दली हुई

राई                        250 ग्राम

साबुत सरसों                       150 ग्राम

नमक                          1 किलों

काली मिर्च साबुत                 200 ग्राम

हींग                                 थोड़ी सी

जीरा                                 100 ग्राम

मेथी भूनकर                       400 ग्राम

लौंग                                50 ग्राम

सौंफ                               200 ग्राम

 

विधि :

इन सारे मसलों को मिला को एक बड़े थाल में सरसों का तेल डाल कर इन सारे मसलों मिला लिया जाये और उनकी छोटी-छोटी फांके काट कर इनकी गुठलियों को निकल दें। इन्हें थोड़ा सा नमक लगाकर धुप में सूखा लें। फिर इनसे सारे मिश्रण में अच्छी तरह हाथों से मिला दें।

इसके पश्चात इस सरे मिश्रण को एक स्टील या एलमुनियम के बर्तन में डाल कर उसे ऊपर से ढक कर खुलोइ जगह पर रख दें। इसके पश्चात् एक तवा या कोई लोहे की चादर का टुकड़ा लेकर उस पर पांच दस लकड़ी के जलते हुए कोयले रख कर उसमे थोड़ी सी भुनी हुई राई और हींग डालकर अचार के बर्तनो के ऊपर रख दें। ऐसा करने से उसमे हींग की खुसबू आने लगेगी।

फिर उस अचार वाले बर्तन को कुछ दिन धुप में रख दें। तीन चार दिन तक धुप में रखे अचार को प्रतिदिन हिलाते रहे और साथ-साथ थोड़ा-थोड़ा सरसों का तेल ऊपर से डालते रहें। तेल का अंदाज़ा ऐसा हो की पूरा अचार उसमे डूबा रहे। करीब एक सप्ताह के पश्चात् यह अचार खाने योग्य हो आएगा।

जो लोग इसे कारोबार के तौर पर अपनाना चाहते हैं इसके लिए आम के अचार के लेबल बहुत बढ़िया किस्म के छपवाइए लेबल छपवाने के लिए किसी अच्छे चित्रकार और प्रेस वाले से सलाह ले सकते है। तैयार अचार को 1 किलो, डेढ़ किलो और 250 ग्राम की शीशियों में पैक करके बाज़ारो में सप्लाई करके बेकार नवयुवक अपना काम बड़े आराम से चला सकते है। धीरे धीरे यह काम बढ़ता जायेगा। कम लागत से अधिक धन कमाने का यह एक अच्छा तरीका है।

 

Written By : Gagan Kumar

Leave a Comment